काव्यशाला पृष्ठ 8 | मातृभाषा - माँ भारती का श्रृंगार | Hindi Poems

कालजयी कविताएँ

हिंदी साहित्य की कालजयी कविताओं का संकलन





नामवर सिंह

फागुनी शाम

नामवर सिंह

शांत रस | आधुनिक काल

 751  0

नरेश मेहता

पीले फूल कनेर के।

नरेश मेहता

शांत रस | आधुनिक काल

 684  0

रांगेय राघव

फ़िर उठा तलवार

रांगेय राघव

वीर रस | आधुनिक काल

 7475  0

केदारनाथ सिंह

नदी 

केदारनाथ सिंह

शांत रस | आधुनिक काल

 712  0

मीराबाई

हरि तुम हरो जन की भीर

मीराबाई

शृंगार रस | भक्तिकाल

 1375  0

रामचंद्र शुक्ल

वसंत

रामचंद्र शुक्ल

अद्भुत रस | आधुनिक काल

 719  0

केदारनाथ सिंह

जब वर्षा शुरु होती है

केदारनाथ सिंह

अद्भुत रस | आधुनिक काल

 757  0

श्रीधर पाठक

स्वराज-स्वागत

श्रीधर पाठक

अद्भुत रस | आधुनिक काल

 773  0

रामधारी सिंह 'दिनकर'

कलम, आज उनकी जय बोल

रामधारी सिंह 'दिनकर'

वीर रस | आधुनिक काल

 6876  1

माखनलाल चतुर्वेदी

जीवन, यह मौलिक महमानी

माखनलाल चतुर्वेदी

अद्भुत रस | आधुनिक काल

 571  0

महादेवी वर्मा

मधुर-मधुर मेरे दीपक जल

महादेवी वर्मा

शृंगार रस | आधुनिक काल

 1541  1

केदारनाथ अग्रवाल

आज नदी बिलकुल उदास थी

केदारनाथ अग्रवाल

शांत रस | आधुनिक काल

 717  0

गुलाब खंडेलवाल

जब ये जीवन फिर पायेंगे 

गुलाब खंडेलवाल

शांत रस | आधुनिक काल

 691  0

उर्मिलेश

शत-शत नमन

उर्मिलेश

वीर रस | आधुनिक काल

 4132  0

रघुवीर सहाय

जब मैं तुम्हारी दया अंगीकार करता हूँ

रघुवीर सहाय

शृंगार रस | आधुनिक काल

 977  0

गोपालदास ‘नीरज’

मेरा नाम लिया जाएगा

गोपालदास ‘नीरज’

करुण रस | आधुनिक काल

 1756  0

नरेन्द्र शर्मा

वर्षा मंगल

नरेन्द्र शर्मा

शांत रस | आधुनिक काल

 699  0

नरेन्द्र शर्मा

नींद उचट जाती है

नरेन्द्र शर्मा

अद्भुत रस | आधुनिक काल

 700  0

सोम ठाकुर

ऋतुओं की संधि

सोम ठाकुर

शांत रस | आधुनिक काल

 720  0

त्रिलोचन

आदमी की गंध

त्रिलोचन

अद्भुत रस | आधुनिक काल

 718  0

नागार्जुन

तीनों बन्दर बापू के

नागार्जुन

हास्य रस | आधुनिक काल

 5893  0

हरिवंश राय बच्चन

तुम तूफान समझ पाओगे

हरिवंश राय बच्चन

अद्भुत रस | आधुनिक काल

 883  0

सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

जागो फिर एक बार

सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

अद्भुत रस | आधुनिक काल

 951  1

संतोषानन्द

मै ना भूलूँगा

संतोषानन्द

शृंगार रस | आधुनिक काल

 1286  0

वियोगी हरि

महाराणा प्रताप

वियोगी हरि

वीर रस | आधुनिक काल

 5121  0

आनंद बख़्शी

आने से उसके आये बहार

आनंद बख़्शी

शृंगार रस | आधुनिक काल

 1032  0

गयाप्रसाद शुक्ल 'सनेही'

घूमें घनश्याम स्यामा-दामिनी लगाए अंक

गयाप्रसाद शुक्ल 'सनेही'

शृंगार रस | आधुनिक काल

 740  0

बालकवि बैरागी

दीवट(दीप पात्र) पर दीप

बालकवि बैरागी

अद्भुत रस | आधुनिक काल

 649  0

तुलसीदास

हे हरि! कवन जतन भ्रम भागै

तुलसीदास

अद्भुत रस | भक्तिकाल

 988  0

महादेवी वर्मा

दीपक अब रजनी जाती रे

महादेवी वर्मा

अद्भुत रस | आधुनिक काल

 730  0




  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com