हरिवंश राय बच्चन | मातृभाषा - माँ भारती का श्रृंगार

हरिवंश राय बच्चन

जीवन परिचय

हरिवंश राय बच्चन का जन्म 27 नवंबर 1907 को इलाहाबाद के पास प्रतापगढ़ जिले के एक छोटे से गाँव पट्टी में हुआ था। हरिवंश राय ने 1938 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय से अँग्रेज़ी साहित्य में एम. ए किया व 1952 तक इलाहाबाद विश्वविद्यालय में प्रवक्ता रहे। 1926 में हरिवंश राय की शादी श्यामा से हुई थी जिनका टीबी की लंबी बीमारी के बाद 1936 में निधन हो गया।  इस बीच वे नितांत अकेले पड़ गए। 1941 में बच्चन ने तेजी सूरी से शादी की। 1952 में पढ़ने के लिए इंग्लैंड चले गए, जहां कैम्ब्रिज  विश्वविद्यालय  में  अंग्रेजी साहित्य/काव्य  पर शोध किया। 1955 में कैम्ब्रिज से वापस आने के बाद आपकी भारत सरकार के विदेश मंत्रालय में हिन्दी विशेषज्ञ के रूप में नियुक्त हो गई। आप राज्यसभा के मनोनीत सदस्य भी रहे और 1976 में आपको पद्मभूषण की उपाधी मिली। इससे पहले आपको 'दो चट्टानें' (कविता–संग्रह) के लिए 1968 में साहित्य अकादमी का पुरस्कार भी मिला था। हरिवंश राय बच्चन का  18 जनवरी, 2003 को मुंबई में निधन हो गया था। बच्चन व्यक्तिवादी गीत कविता या हालावादी काव्य के अग्रणी कवि हैं। अपनी काव्य-यात्रा के आरम्भिक दौर में आप 'उमर ख़ैय्याम'  के जीवन-दर्शन से बहुत प्रभावित रहे और उनकी प्रसिद्ध कृति, 'मधुशाला' उमर ख़ैय्याम की रूबाइयों से प्रेरित होकर ही लिखी गई थी। मधुशाला को मंच पर अत्यधिक प्रसिद्धि मिली और बच्चन काव्य प्रेमियों के लोकप्रिय कवि बन गए।

लेखन शैली

मधुबाला, मधुकलश, निशा निमंत्रण, एकांत संगीत, सतरंगिनी, विकल विश्व, खादी के फूल, सूत की माला, मिलन, दो चट्टानें व आरती और अंगारे इत्यादि बच्चन की मुख्य कृतियां हैं।

प्रमुख कृतियाँ
क्रम संख्या कविता का नाम रस लिंक
1

कोई पार नदी के गाता

शांत रस
2

त्राहि त्राहि कर उठता जीवन

करुण रस
3

क्षण भर को क्यों प्यार किया था?

शृंगार रस
4

तुम तूफान समझ पाओगे

अद्भुत रस
5

मैं कल रात नहीं रोया था

करुण रस
6

तीर पर कैसे रुकूँ मैं आज लहरों में निमंत्रण!

शांत रस
7

जो बीत गई सो बात गयी

शांत रस
8

जाओ कल्पित साथी मन के

अद्भुत रस
9

क्यों जीता हूँ 

शांत रस
10

रात आधी खींच कर मेरी हथेली

शृंगार रस
11

इतने मत उन्‍मत्‍त बनो 

अद्भुत रस
12

शहीद की माँ

करुण रस
13

अग्निपथ

वीर रस
14

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है

अद्भुत रस
15

क्या है मेरी बारी में

शांत रस
16

लो दिन बीता लो रात गयी

शांत रस
17

ऐसे मैं मन बहलाता हूँ

शांत रस
18

आत्‍मपरिचय

शांत रस
19

नीड़ का निर्माण

अद्भुत रस
20

स्वप्न था मेरा भयंकर

अद्भुत रस

  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 8439003408

Tel : + (91) - 8881813408
Mail : info@maatribhasha.com