रीतिकाल की कविताएँ | मातृभाषा - माँ भारती का श्रृंगार

रीतिकाल की कविताएँ

मुख्य पृष्ठ / काव्यशाला / रीतिकाल

हिंदी साहित्य के रीतिकाल की कालजयी कविताओं का संकलन



दाढ़ी के रखैयन की दाढ़ी सी

भूषण

शांत रस | रीतिकाल

तेरे हीं भुजान पर भूतल को भार

भूषण

वीर रस | रीतिकाल

मैन ऎसो मन मृदु

केशव

शांत रस | रीतिकाल

एक भूत में होत

केशव

शांत रस | रीतिकाल

पवन चक्र परचंड चलत

केशव

भयानक रस | रीतिकाल

अँचल के ऎँचे चल करती दॄगँचल को

पद्माकर

शृंगार रस | रीतिकाल

है यह आजु बसन्त समौ

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

चौहूँ भाग बाग वन

केशव

अद्भुत रस | रीतिकाल

आयौ जुरि उततें समूह हुरिहारन कौ

जगन्नाथदास 'रत्नाकर'

शृंगार रस | रीतिकाल

दस बार, बीस बार,

ठाकुर

अद्भुत रस | रीतिकाल

नैनन के तारन मै राखौ

केशव

शांत रस | रीतिकाल

आल्हा खण्ड

जगनिक

रौद्र रस | रीतिकाल

झहरि झहरि झीनी बूँद है परति मानों

देव

शृंगार रस | रीतिकाल

उड़ि गुलाल घूँघर भई

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

इन्द्र जिमि जम्भ पर

भूषण

वीर रस | रीतिकाल

बिहारी के दोहे

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

ओप भरी कंचुकी उरोजन पर ताने कसी, 

पद्माकर

शृंगार रस | रीतिकाल

कै रति रँग थकी थिर ह्वै

पद्माकर

शृंगार रस | रीतिकाल

सेवक सिपाही सदा उन रजपूतन के 

ठाकुर

वीर रस | रीतिकाल

कैधौँ कली बेला की चमेली

केशव

शांत रस | रीतिकाल

बसंती हवा

केदारनाथ अग्रवाल

अद्भुत रस | रीतिकाल

धनि हैँगे वे तात औ मात

ठाकुर

अद्भुत रस | रीतिकाल

जासों प्रीति ताहि निठुराई

घनानंद

शृंगार रस | रीतिकाल

बाने फहराने घहराने घंटा गजन के

भूषण

वीर रस | रीतिकाल

पावस रितु बृन्दावनकी

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

माहि सरोवर सौरभ लै

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

रतनारी हो थारी आँखड़ियाँ

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

फूले आसपास कास विमल

श्रीपति

शृंगार रस | रीतिकाल

यह प्रेम कथा कहिये किहि सोँ

ठाकुर

करुण रस | रीतिकाल

आरस सोँ आरत सँभारत

ठाकुर

शांत रस | रीतिकाल

बिरहानल दाह दहै तन ताप

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

चाह भरो चंचल हमारो चित्त

पद्माकर

शृंगार रस | रीतिकाल

अधखुली कँचुकी उरोज अध आधे खुले

पद्माकर

शृंगार रस | रीतिकाल

गाहि सरोवर सौरभ लै

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

थोरी-थोरी बैस की अहीरन की छोरी संग

जगन्नाथदास 'रत्नाकर'

शृंगार रस | रीतिकाल

चहचही चुभकैँ चुभी हैँ चौँक

पद्माकर

शृंगार रस | रीतिकाल

गोकुल की गैल, गैल गैल ग्वालिन की

जगन्नाथदास 'रत्नाकर'

शृंगार रस | रीतिकाल

दुरिहै क्यों भूखन बसन

केशव

अद्भुत रस | रीतिकाल

खेलत फाग दुहूँ तिय कौ

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

पायन को परिबो अपमान

केशव

शांत रस | रीतिकाल

सौंह कियें ढरकौहे से नैन

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

बैर प्रीति करिबे की मन में न राखै सँक

ठाकुर

अद्भुत रस | रीतिकाल

आई बरसाने ते बुलाय वृषभानु सुता

देव

शृंगार रस | रीतिकाल

लाजनि लपेटि चितवनि

घनानंद

शृंगार रस | रीतिकाल

सोने की एक लता

केशव

शांत रस | रीतिकाल

हो झालौ दे छे रसिया

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

ग्रीषम प्रचंड घाम चंडकर मंडल तें

देव

शृंगार रस | रीतिकाल

आरस सोँ रस सोँ

पद्माकर

शृंगार रस | रीतिकाल

कुँजन के कोरे मनु केलिरस बोरे लाल

देव

शृंगार रस | रीतिकाल

कारे कारे तम कैसे पीतम

केशव

अद्भुत रस | रीतिकाल

मेवा घनी बई काबुल में,

ठाकुर

अद्भुत रस | रीतिकाल

जानत नहिं लगि मैं

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

कुन्दन से अँग नवयौवन सुरँग उतै

देव

शृंगार रस | रीतिकाल

रूप अनूप दई बिधि तोहि तो

ठाकुर

शृंगार रस | रीतिकाल

जिहि फन फुत्कार उड़त पहार भार

भूषण

वीर रस | रीतिकाल

केसरि से बरन

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

वंस बड़ौ बड़ी संगति पाइ

महाकवि बिहारीलाल

अद्भुत रस | रीतिकाल

बीर अभिमन्यु की लपालप कृपान बक्र

जगन्नाथदास 'रत्नाकर'

वीर रस | रीतिकाल

गोरी गरबीली उठी ऊँघत चकात गात

देव

शृंगार रस | रीतिकाल

भोर तें साँझ लौ कानन ओर निहारति 

घनानंद

शृंगार रस | रीतिकाल

जाके लिए घर आई घिघाय

महाकवि बिहारीलाल

अद्भुत रस | रीतिकाल

वहै मुसक्यानि, वहै मृदु बतरानि, वहै

घनानंद

शृंगार रस | रीतिकाल

वा निरमोहिनि रूप की रासि न

ठाकुर

शृंगार रस | रीतिकाल

आवन सुन्यो है मनभावन को भावती ने 

देव

शृंगार रस | रीतिकाल

बैठी अटा पर, औध बिसूरत

श्रीपति

शांत रस | रीतिकाल

अब का समुझावती को समुझै

ठाकुर

अद्भुत रस | रीतिकाल

ता दिन अखिल खलभलै खल खलक में

भूषण

वीर रस | रीतिकाल

छवि को सदन मोद मंडित

घनानंद

शृंगार रस | रीतिकाल

जाहिरै जागति सी जमुना

पद्माकर

शांत रस | रीतिकाल

सुघर सलोने स्याम सुंदर सुजान कान्ह

जगन्नाथदास 'रत्नाकर'

शृंगार रस | रीतिकाल

झलकै अति सुन्दर आनन गौर

घनानंद

शृंगार रस | रीतिकाल

बौरसरी मधुपान छक्यौ

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

आँगन बैठी सुन्यो

देव

शृंगार रस | रीतिकाल

मैं अपनौ मनभावन लीनों

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल

बैठे भंग छानत अनंग-अरि रंग रमे

जगन्नाथदास 'रत्नाकर'

शृंगार रस | रीतिकाल

ब्रह्म के आनन तें निकसे

भूषण

वीर रस | रीतिकाल

जौँ हौँ कहौँ रहिये

केशव

शांत रस | रीतिकाल

जोबन के रँग भरी ईँगुर से अँगनि पै

देव

शृंगार रस | रीतिकाल

नील पर कटि

महाकवि बिहारीलाल

शृंगार रस | रीतिकाल




  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 8439003408

Tel : + (91) - 8881813408
Mail : info@maatribhasha.com