प्रभाकर माचवे | मातृभाषा - माँ भारती का श्रृंगार

प्रभाकर माचवे

जीवन परिचय

प्रभाकर माचवे का जन्म ग्वालियर में तथा शिक्षा इंदौर में और आगरा में हुई। इन्होंने एम.ए., पी-एच.डी. एवं साहित्य वाचस्पति की उपाधियां प्राप्त कीं। ये मजदूर संघ, आकाशवाणी, साहित्य आकदमी, भारतीय भाषा परिषद् आदि से सम्बध्द रहे। देश और विदेश में अध्यापन किया। इनके कविता-संग्रह हैं : 'स्वप्न भंग', 'अनुक्षण', 'तेल की पकौडियां' तथा 'विश्वकर्मा' आदि। इन्होंने उपन्यास, निबंध, समालोचना, अनुवाद आदि मराठी, हिन्दी, अंग्रेजी में 100 से अधिक पुस्तकें लिखी हैं। इन्हें 'सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार' तथा उ.प्र. हिन्दी संस्थान का सम्मान प्राप्त हुआ है।

लेखन शैली

इनके कविता-संग्रह हैं : 'स्वप्न भंग', 'अनुक्षण', 'तेल की पकौडियां' तथा 'विश्वकर्मा' आदि। इन्होंने उपन्यास, निबंध, समालोचना, अनुवाद आदि मराठी, हिन्दी, अंग्रेजी में 100 से अधिक पुस्तकें लिखी हैं।

प्रमुख कृतियाँ
क्रम संख्या कविता का नाम रस लिंक
1

माता की मृत्यु पर

करुण रस
2

अ-परंपरित 

शांत रस
3

कविता क्या है

शांत रस
4

काशी के घाट पर

शांत रस
5

कापालिक

अद्भुत रस
6

वसंतागम

शांत रस
7

बादल बरसै मूसलधार

अद्भुत रस
8

देशोद्धारकों से

शांत रस
9

वह एक

करुण रस
10

पालतू

शांत रस
11

राही से

शांत रस
12

प्रेम: एक परिभाषा

शांत रस
13

अश्वत्थ

अद्भुत रस

  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com