प्रदीप | मातृभाषा - माँ भारती का श्रृंगार

प्रदीप

जीवन परिचय

विविध कवि प्रदीप का मूल नाम रामचंद्र द्विवेदी था। आपने हिंदी फ़िल्मों के लिये बहुत से यादगार गीत लिखे। उन्हें 1997-98 के "दादा साहब फ़ाल्के पुरस्कार" से सम्मानित किया गया। कवि प्रदीप ऐ मेरे वतन के लोगों  सरीखे देशभक्ति गीतों के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान शहीद हुए सैनिकों की श्रद्धांजलि में ये गीत लिखा था. लता मंगेशकर द्वारा गाए इस गीत का तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की उपस्थिति में 26 जनवरी 1963 को दिल्ली के रामलीला मैदान में सीधा प्रसारण किया गया । गीत सुनकर जवाहरलाल नेहरू के नयन भर आए थे । कवि प्रदीप ने इस गीत का राजस्व युद्ध विधवा कोष में जमा करने की अपील की । मुंबई उच्च न्यायालय ने 25 अगस्त 2005 को संगीत कंपनी एचएमवी को इस कोष में अग्रिम रूप से 10 लाख जमा करने का आदेश दिया ।

लेखन शैली

कवि प्रदीप की पहचान 1940 में रिलीज हुई फिल्म बंधन से बनी. हालांकि 1943 की स्वर्ण जयंती हिट फिल्म किस्मत के गीत "दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिंदुस्तान हमारा है" ने उन्हें देशभक्ति गीत के रचनाकारों में अमर कर दिया।

प्रमुख कृतियाँ
क्रम संख्या कविता का नाम रस लिंक
1

गा रही है ज़िंदगी हर तरफ़

अद्भुत रस
2

होने लगा है मुझ पे जवानी का असर

अद्भुत रस
3

आज हिमालय की चोटी से

वीर रस
4

अमृत और ज़हर दोनों हैं सागर में

अद्भुत रस
5

कभी धूप तो कभी छाँव 

शांत रस
6

दे दी हमें आज़ादी

अद्भुत रस
7

आओ बच्चो तुम्हें दिखाएं

अद्भुत रस
8

हमने जग की

करुण रस
9

कभी कभी खुद से बात करो

अद्भुत रस
10

ऐ मेरे वतन के लोगों

करुण रस
11

तुमको तो करोड़ो साल हुए

अद्भुत रस
12

हम तो अलबेले मज़दूर

शांत रस
13

किस बाग़ में मैं जन्मा खेला 

शांत रस
14

मेरे जीवन के पथ पर

अद्भुत रस
15

पिंजरे के पंछी रे

करुण रस
16

मेरे मन हँसते हुए चल

शांत रस
17

चलो चलें मन सपनो के गाँव में

अद्भुत रस
18

धीरे धीरे आ रे बादल

अद्भुत रस
19

न जाने किधर आज

शांत रस
20

ऊपर गगन विशाल

शांत रस
21

हम लाये हैं तूफ़ान से किश्ती निकाल के

वीर रस

  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com