नवीन कल्पना करो

नवीन कल्पना करो गोपाल सिंह नेपाली

नवीन कल्पना करो

गोपाल सिंह नेपाली | अद्भुत रस | आधुनिक काल

निज राष्ट्र के शरीर के सिंगार के लिए
तुम कल्पना करो, नवीन कल्पना करो,
तुम कल्पना करो।
 
अब देश है स्वतंत्र, मेदिनी स्वतंत्र है 
मधुमास है स्वतंत्र, चाँदनी स्वतंत्र है 
हर दीप है स्वतंत्र, रोशनी स्वतंत्र है 
अब शक्ति की ज्वलंत दामिनी स्वतंत्र है 

लेकर अनंत शक्तियाँ सद्य समृद्धि की-
तुम कामना करो, किशोर कामना करो,
तुम कल्पना करो।

तन की स्वतंत्रता चरित्र का निखार है 
मन की स्वतंत्रता विचार की बहार है 
घर की स्वतंत्रता समाज का सिंगार है 
पर देश की स्वतंत्रता अमर पुकार है 

टूटे कभी न तार यह अमर पुकार का- 
तुम साधना करो, अनंत साधना करो,
तुम कल्पना करो।

हम थे अभी-अभी गुलाम, यह न भूलना 
करना पड़ा हमें सलाम, यह न भूलना 
रोते फिरे उमर तमाम, यह न भूलना 
था फूट का मिला इनाम, वह न भूलना 

बीती गुलामियाँ, न लौट आएँ फिर कभी 
तुम भावना करो, स्वतंत्र भावना करो
तुम कल्पना करो।

अपने विचार साझा करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com