भारतेन्दु हरिश्चंद्र

भारतेन्दु हरिश्चंद्र रामचंद्र शुक्ल

भारतेन्दु हरिश्चंद्र

रामचंद्र शुक्ल | अद्भुत रस | आधुनिक काल

(1)
किंशुक कानन होते थे लाल,
       कदंब भी होकर पीले ढले।
आम भी भौंरे नचाते थे,
       भौंरे, बिछाते थे पाँवडे पैरों तले ।।
कोयल कूक के जाती चली,
       सिर पीट के जाते पपीहे चले।
चेत न होता हमें हम कौन हैं,
       औ किसके रज से हैं पले ।।

(2)
बानी थे भूल रहे हम जो,
       इनके औ हमारे बड़ों ने गढ़ी।
मर्म कहाँ मिलते इनके अब,
       चित्ता में चाह थी और चढ़ी ।।
ये तो बिगाने थे जाते बने,
       गुल बुल्बुल की बकवादें बढ़ीं।
नर्गिस थे नयनों में गडे नित।
       शीन औ काफ से जीभ मढ़ी ।।
 
(3)
शिष्ट शराफत में थे लगें,
       यह चंद औ सूर की बानी बड़ी।
केवल तानों में जाती तनी,
       मुँह में मँगतों के थी जाती सड़ी।।
राज के काज को त्याग सभी,
       फिर धर्म की धार पै आके अड़ी।
श्री हरिचंद्र जो होते न तो
       रह जाती वहाँ की वहाँ ही पड़ी ।।

अपने विचार साझा करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com