कलयुग में कृष्ण  Rahul Kumar


कलयुग में कृष्ण

Rahul Kumar

हे द्वापर वाले कृष्ण आज आ पड़ी जरूरत फिर एक बार,
कलयुग में मानवता की, हो रही है हत्या बारम्बार,
हे कान्हा! आओ फिर तुम एक बार।
 

तेरी जान बचाने को माँ ने, तुझे यशोदा घर भेजा,
माँ से अब जान छुड़ाने को, बच्चे ने उसे वृद्धाश्रम भेजा,
राधा कृष्ण के अमर प्रेम का हर दिन होता अब बलात्कार,
हे मुरली वाले कान्हा! आओ फिर तुम एक बार।
 

वो द्वापर था ये कलयुग है, वहाँ एक कंस यहाँ “कंसें” हैं,
बच्चे साँसों को बिलख रहे, भँवर में सारे रिश्ते हैं,
अब पग-पग पर है चीर हरन, बहनें करती हर वक़्त पुकार,
रे कान्हा! आओ फिर तुम एक बार।
 

वहाँ एक अर्जुन था मोहग्रस्त, यहाँ पूरा लोक भरमाया है,
रूप, रस, आडम्बर का बस सब के सिर पर माया है,
शुभ औ अशुभ के महाभारत में अब किसकी हो जयजयकार,
हे कॄष्ण! आओ फिर तुम एक बार।
 

अब विदुर नीति की जगह स्वार्थनीति बलशाली यहाँ,
कोई नेता, देश प्रेम की बात करे, ऐसा न कोई भीष्म यहाँ,
ललकार रहे मूल्यों को अब पैसा, शोहरत और अहंकार,
हे कृष्ण! आओ फिर तुम एक बार।
 

दिखला दो अपना विराट रूप, समझा दो फिर से धर्म सूत्र,
कर दो विनाश अधर्मी का, ला दो फिर से जीवन पवित्र,
भगवन उठा फिर वही सुदर्शन, इस घोर तिमिर के तुम पतवार,
हे गिरधर गोपाल! आओ फिर तुम एक बार।

अपने विचार साझा करें




1
ने पसंद किया
113
बार देखा गया

पसंद करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com