सूर्य की चेतावनी  RATNA PANDEY

सूर्य की चेतावनी

RATNA PANDEY

नहीं तपता था कभी पहले मैं ऐसे,
कष्ट होता है मुझे भी तपने में ऐसे,
नहीं है दोष मेरा, सभी इस युग की माया है,
इन्सान ने स्वर्ग सी धरती को,
कचरे का घर बनाया है।
मुस्कुराते लहलहाते वृक्षों को
काटकर अपाहिज बनाया है,
बहती हुई प्राण वायु को भी
दम घुटने का जरिया बनाया है।
नहीं बख्शा सरिताओं को,
अपने पाप का घड़ा उसमें बहाया है,
देश के रक्षक पर्वतों को,
काट-काटकर छोटा बनाया है।
 

यह सब साथी हैं मेरे,
सदियों से इन्हें मैं जानता हूँ,
और हर रोज़ आकर ऊपर से उन्हें मैं निहारता हूँ।
आँख भर आती है मेरी उनकी दुर्दशा देखकर,
कान सुन नहीं पाते हर प्रहर उनका रुदन,
हर रोज़ आपबीती वह मुझको सुनाते हैं,
और मेरे समक्ष आँसू बहाते हैं।
ब्रह्माण्ड में सबसे शक्तिशाली हो रवि तुम,
करके कुछ जतन तुम हमको बचालो,
ऐसी उम्मीद वह मुझसे लगाते हैं।
समझ नहीं पा रहे यह लोग किस ओर जा रहे हैं,
बरबाद करके हमें,
यह स्वयं के जीवन के पल घटा रहे हैं।
 

सुनकर फरियाद सभी की,
सूर्य का धैर्य खो जाएगा,
झुलसा कर रख देगा
यदि अपनी वाली पर आ जाएगा।
संभल जाओ सूर्य के धैर्य का इम्तहान मत लो,
अभी तो दे रहा है चेतावनी,
नहीं समझे अगर,
नहीं संभले अगर,
नहीं सुधरे अगर,
तो जलाकर भस्म कर देगा।
चिता में अग्नि की ज़रूरत ही नहीं होगी,
सूर्य अपनी गर्मी से ही जलाकर राख कर देगा।
सूर्य अपनी गर्मी से ही जलाकर राख कर देगा।

अपने विचार साझा करें




2
ने पसंद किया
854
बार देखा गया

पसंद करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com