ढ़लता सूरज  RATNA PANDEY

ढ़लता सूरज

RATNA PANDEY

मैं उगता सूरज ऊषा के
साथ धरा पर आता हूँ,
भगवान सा पूजा जाता हूँ
आर्ध्य देकर लोग मुझको
नमन करते हैं,
नतमस्तक होकर मेरे समक्ष
मुझको आदर देते हैं,
मैं भी धरा पर अपना सर्वस्व
अर्पण करता हूँ,
दुनिया चलती है मेरे प्रकाश से
दुनिया को मैं रोशन रखता हूँ।
 

खेतों खलियानों में,
जंगल बियाबानों में,
मैं अपनी किरणें बिखराता हूँ,
बारिश से भीगे खेतों को मैं
अपनी गर्मी देता हूँ,
ठंड से काँपते शरीर को
मैं धूप की चादर देता हूँ,
जमती है जब बर्फ धरा पर
तब मैं ही उसे पिघलाता हूँ,
तपता हूँ मैं रोज़ अग्नि में
किंतु सबको जीवन देता हूँ।
 

किंतु जब मैं ढलता हूँ
मुझे कोई नमन नहीं करता है,
थके हुए मेरे तन को
कोई अर्ध्य नहीं देता,
नहीं चाहता मैं कीचड़ मिट्टी से सने हाथ
चौबीस घंटे काम करें,
इसीलिये मैं ढलता हूँ।
जाते-जाते संध्या और चंदा को
आमंत्रित करता हूँ,
ताकि तपती धरा पर
शीतलता भी वास करे,
धूप से जलते श्रमिकों को
ठंडक का आभास मिले,
स्वेद की बहती बूंदों को
राहत का अहसास मिले,
इसीलिये मैं ढलता हूँ
ताकि मेहनतकश इंसानों को
थोड़ा सा विश्राम मिले।

अपने विचार साझा करें




2
ने पसंद किया
1083
बार देखा गया

पसंद करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com