बस यूँही  VIMAL KISHORE RANA

बस यूँही

VIMAL KISHORE RANA

सरक जाती है इक बूंद सी,
पलकों के किनारे से, बस यूँही।
ठहर जाती है, दो पल को ही,
ज़िंदगी इक सितारे से, बस यूँही।
सिमट जाता है किसी दर्रा में,
किसी गमगीन फिज़ा में जो दिल कभी,
लहर जाती है हलचल सी,
इस तन्हा गलियारे में, बस यूँही।
 

यूँ तो इस दिल ने सपनों की बारिश में,
खुद को अक्सर भीगा किया।
यूँ तो महफिल में दिल ही दिल,
खुद का कुछ हिस्सा जिया।
सितारों की रोशनी में टिमटिमाया,
एहसासों को, जज़्बातों को।
यूँ तो पंछियों की चहक को,
मन ही मन गुनगुनाया, चहका किया।
पर लौट आया हर मर्तबा,
उस शामियाने से, महफिल-ए-तराने से, बस यूँही।

सरक जाती है इक बूंद सी,
पलकों के किनारे से, बस यूँही।
 

दिन के उजाले से जीना चाहा
अक्सर रोशनी को,
हर दिन के फसानें से चुराना चाहा
अक्सर दिशनगी को।
अक्सर बहना चाहा इस ज़िंदा नदी के,
किनारे-सहारे,
मंज़िल के बहाने से पीना चाहा,
अक्सर शरबत-ए-नमी को।
अधूरी इक प्यास लिए
सिमट आया दिल,
मंज़िल के मुहाने से, बस यूँही।

सरक जाती है इक बूंद सी,
पलकों के किनारे से, बस यूँही।
 

बहकर जिया, रुककर जिया,
पा कर जिया, खोकर जिया,
फिज़ा-ए-ज़िंदगी को किनारे से भी
और डुबोकर जिया।
इस दुनिया की रस्मों को
समझकर, निभाकर जिया।
इस दुनिया से अलग
सपनों की खुशबू को
ख्यालों में पिरोकर जिया।
तोहफा-ए-ज़िंदगी बख्शी है
उस रहमतगर-हमसफर ने अगर,
तोहफा-ए-ज़िंदगी को हर पल
हासिल करने को जिया।
फिर आया इक ख्याल, इक तराना,
गुनगुनाने से, बस यूँही।

सरक जाती है, इक बूंद सी,
पलकों के किनारे से, बस यूँही।
ठहर जाती है, दो पल को ही,
ज़िंदगी इक सितारे से, बस यूँही।

अपने विचार साझा करें




0
ने पसंद किया
766
बार देखा गया

पसंद करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com