अकिंचन मन  Diwakar Srivastava

अकिंचन मन

Diwakar Srivastava

कुछ अकिंचन सा है मन, काश हो कोई ऐसा दर्पण
कतिपय देख लूँ मैं उसमे अपने अंतर का अंतर्मन।
 

खुले आसमान के नीचे छत की कोई बाधा न हो,
सो जाऊँ मैं बस इन अबूझ तारों को यूँ गिन-गिन।
 

भ्रमित इस मन के बहुत से अनसुलझे भरम हैं,
बस, हो जाऊँ मैं विह्वल जो हो मेरे ईश के दर्शन।

अपने विचार साझा करें




0
ने पसंद किया
131
बार देखा गया

पसंद करें

  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 8881813408
Mail : info[at]maatribhasha[dot]com