स्मृतियों के द्वार  Anurag Jaiswal

स्मृतियों के द्वार

Anurag Jaiswal

स्मृतियों के द्वार पे दस्तक फिर वही पुरानी है
शाम ढले हर रोज़ वही तस्वीरें हैं, आवाज़ें हैं,
मन के सागर के तट पर हर बार वही कश्ती रुकती
हर बार वही साया उतरे, हर बार करे मनमाना पन।
 

मिट्टी के तन पर इतनी माया, क्यों इतने रंग बरसते हैं
ठग लेते हैं हर बार मुझे, हे देव! करो थोड़ा तो रहम,
संग विचरण करती हैं उसके मन की सारी अभिलाषाएँ
उस छवि के संग नेहा लगते, विसरा जाते सारे बंधन।
 

है सौम्य हँसी मुखमंडल पर, एक ज्योतिपुंज सा फिरता है
मैं मंत्रमुग्ध सा तकता हूँ, महका जाता हूँ साथ-साथ,
कुछ पल जो बीते साथ कभी, रह-रह के वो चुभ जाते हैं
फिर से सजीव हो उठते हैं, वो हम दोनों के मन आँगन।
 

सुख के दो क्षण की ओस गिरे, फिर तरसा करे सदियों के पल
ऐसी निष्ठुर ये प्रीति भला, क्यूँ करके हमको छलती है,
क्षण भर के साथ की आशाएँ, फिर दुर्दिन घिरते जाते हैं
ढह जाते कोमल मन के द्वार, भरते जग में आँसू क्रंदन।

अपने विचार साझा करें




0
ने पसंद किया
364
बार देखा गया

पसंद करें

  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 8881813408
Mail : info[at]maatribhasha[dot]com