मोरे रामलला  Anupama Ravindra Singh Thakur

मोरे रामलला

Anupama Ravindra Singh Thakur

रूप सलोना
मोरे रामलला का
वारी-वारी जाऊँ मैं,
कमल नयन पर
बलहारी हो
बलहारी जाऊँ मैं।
 

अधरों पर मंद-मंद मुस्कान
आँखों में छठा निराली है,
जगत के पालनहार कौशल्या नंदन पर
न्योछावर हो,
न्योछावर जाऊँ मैं।
 

भाल तिलक सुशोभित
सुंदर रत्नजड़ित गलमाला,
कर बृहत शारंग धरे
हरिद्राभ धुनोति सोहे,
शांत स्वरूपा,
आनंदमयी दशरथ नंदन पर
बलहारी हो
बलहारी जाऊँ मैं।
 

ओजस्वी छटा बिखेरे
धूम-धाम संग गाजे- बाजे,
भक्तगण झूम नाचे
रामलला
आज अवध बिराजे।
सर्वेश्वर, सर्वव्यापक
नारायण पर
बलहारी हो
बलहारी जाऊँ मैं।
 

उनकी अनुपम आभा
पर वारी -वारी जाऊँ मैं,
उनकी अनोखी काया पर
न्योछावर हो जाऊँ मैं।

अपने विचार साझा करें




0
ने पसंद किया
483
बार देखा गया

पसंद करें

  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 8881813408
Mail : info[at]maatribhasha[dot]com