कर्ण  Gulshan Kumar Pal

कर्ण

Gulshan Kumar Pal

बचपन जिया असत्य में, होकर अनजाना मैं,
सूर्यपुत्र होकर भी, सूतपुत्र कहलाया मैं।
 

राजपाट का न था लालच मुझे, सबको देता था दान,
अपमान सह कर भी चुप था, सबसे था अनजान।
 

मित्रता के लिए दी थी मैंने अपनी जान,
होकर मृत्युंजय पा लिया मैंने अपना सम्मान।
 

ना डरा मैं भगवान से, चलाए आपने बाण,
धर्म के लिए, दी मैंने अपनी जान।
 

नाम रहेगा अमर मेरा, जब बात होगी शूरवीरो में,
अर्जुन से पहले लेंगे मेरा नाम महान योद्धाओं में।

अपने विचार साझा करें




0
ने पसंद किया
195
बार देखा गया

पसंद करें

  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 8881813408
Mail : info[at]maatribhasha[dot]com