राष्ट्र भक्त  DEVENDRA PRATAP VERMA

राष्ट्र भक्त

DEVENDRA PRATAP VERMA

जब मैं छोटा सा था,
तो मेरी यह अभिलाषा थी,
हँसता हुआ देखूँ,भारत को,
मन मे छोटी सी एक आशा थी।
 

मन की पावन आँखों ने,
कुछ देखे ख्वाब सुनहरे थे,
उन सारे ख्वाबों की अपनी
पहचानी सी भाषा थी।
 

अपने कोमल ख्वाबों में,
मैं भारत को एक घर पाता था,
हर कोई जिस घर की खातिर,
अपना लहू बहाता था।
 

जिसके आँगन की छाया में,
नित मानवता मुस्काती थी,
अनाचार का नाम नहीं था,
शिष्टता द्वार सजाती थी।
 

जीवन के नैतिक मूल्यों का,
सम्मान यहाँ सब करते थे,
आदर्शों की रक्षा करने को,
हर पल तत्पर रहते थे।
 

करूँ समर्पित भाव से,
सेवा इस घर की जीवन भर,
सत्पथ पर चलना है मुझको,
काँटों मे राह बनाकर।
 

बचपन के ये सपने मेरे,
सच्चाई की राह दिखाते थे,
कुछ करने का विश्वास भरा,
साहस मन को दे जाते थे।
 

अब कहाँ गए बचपन के सपने,
कहाँ गया मन का विश्वास,
कहाँ छिप गई आदर्शों की बातें,
कहाँ खो गया कर्तव्य का एहसास।
 

क्या झूठे सपने थे मेरे,
क्या झूठा था विश्वास मेरा,
नहीं! नहीं! ये बातें झूठी,
मेरी शपथ नहीं है टूटी।
 

अरे! मैं तो हूँ सत्पथ का राही,
साहस मेरा स्रिंगार है,
रोम-रोम है धैर्यवान,
अपने कर्तव्य का मुझे ज्ञान है।
 

किन्तु हाय! ये रिश्ते नाते,
पावों मे बेड़ी पहनाते हैं,
कर्तव्य पथ की बाधा बनकर,
राहों मे तन जाते हैं।
 

वह प्रेम की देवी जिसने,
हँसना मुझे सिखाया है,
मेरे साथ चलकर मत पूछो,
कितना कष्ट उठाया है।
 

मेरे संकल्पों की खातिर,
कैसे-कैसे बलिदान दिए,
पथ से विचलित न हो जाऊँ कहीं मैं,
उसने अपने अश्रु थाम लिए।
 

वह देखो ममता की मूरत
बच्चे से अपने दूर हुई,
जिस बच्चे की छींक पर
वह पागल सी हो जाती थी,
अपने हृदय पर पत्थर रख,
कर्तव्य पथ की बलिवेदी पर,
उसे भेंट चढ़ाने को मजबूर हुई।
 

उसकी करुण वेदना को
भला कौन समझ पाएगा,
यह उसका त्याग तपोबल है,
जो पथ की शीतल छाया बनकर,
लक्ष्य तक मुझे ले जाएगा।
 

ममता की मूरत, प्रेम की देवी,
दोनों के उपकार हैं मुझ पर,
मेरे हिस्से के कष्टों को
वे नित सहते हैं हँसकर।
 

किन्तु भला कब तक !
वे मेरे हिस्से की पीड़ा झेलेंगे,
अपनी इच्छाओं की हत्या कर,
कई अंतर्द्वंद्वों से खलेंगे।
 

और उस पर यह धरम परक समाज,
जो मुझे धर्म की शिक्षा देता है,
स्वयं अधर्म की अंगुली पकड़,
एक राष्ट्र भक्त के परिजन की,
नित अग्नि-परीक्षा लेता है।
 

समाज के द्वेष-कपट से,
उनकी रक्षा कर पाऊँ कैसे,
भारत देश की आन की खातिर,
वह ममता वह प्रेम भुलाऊँ कैसे?
 

यही अंतर्द्वंद्व ही मेरे
कर्तव्य पथ की बाधा है,
मन संकल्पों से विचलित है,
हृदय शोक से आधा है।
 

यदि देश प्रेम के पथ पर
मुझे आगे बढ़ते जाना है,
सबसे पहले इस समाज को
मानवता का सबक सिखाना है।
 

एक राष्ट्र-भक्त के परिजन ही,
उसे ऊर्जावान बनाते हैं,
सच्चे प्रेम के अमृत से,
उनकी शक्ति बढ़ाते हैं।
 

उनके समुचित सम्मान से,
राष्ट्र-प्रतिष्ठित होगा,
बचपन की निस्वार्थ आँखों का,
सपना फिर पूरा होगा।
 

देशप्रेम है सर्वोपरि,
यह सत्य समझना है सबको,
पथ अलग-अलग हो जाए मगर,
एक ओर चलना है सबको।
 

रिश्तों के बंधन न टूटें,
कर्तव्य का मार्ग भी न छूटे,
सत्य सदा उच्चारित हो,
सदाचार व्यवहारित हो,
असत्य की निंदा हो सदैव,
अनाचार अपमानित हो।

अपने विचार साझा करें




1
ने पसंद किया
752
बार देखा गया

पसंद करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com