संतोष  DEVENDRA PRATAP VERMA

संतोष

DEVENDRA PRATAP VERMA

असफलताओं का क्रम
साहस को अधमरा कर चुका है,
निराशा की बेड़ियाँ कदमों मे हैं,
धैर्य का जुगनू लौ विहीन होता,
अँधेरों के सम्मुख घुटने टेक रहा है
और उम्मीदों का सूर्य, विश्वास के
क्षितिज पर अस्त होने को है।
जो कुछ भी शेष बचा है,
वह अवशेष यक्ष प्रश्न सा है।
 

क्या अथक परिश्रम और उससे उपजे
स्वेद कणों की पातों में इसी की चाह थी!
या फिर जहाँ चाह वहाँ राह महज़ एक अफवाह थी।
यदि नहीं! तो निज सामर्थ्य को समझने मे भूल क्यों?
सफलता की राह मे विफलता के शूल क्यों?
चित्त इन सीधे प्रश्नों के उत्तर ढूँढता,
शून्य की गहराइयों मे उतर गया
और अंधकार का साम्राज्य,
सूखे पत्तों की भाँति बिखर गया।
 

सफलता की कामना ही
विफलता के भाव को जन्म देती है।
स्वतः उत्पन्न हो जाता है भय
और भय की विषाक्त वायु निर्भय
आत्म विश्वास के प्राण हर लेती है।
तो क्या सफलता इसी भाँति
विफलता का आहार बनेगी?
सुखों की चाह दुःख की डगर चुनेगी,
या कहीं कोई पवित्र प्रतिबंध है,
विफलताओं और दुखों का स्थायी अंत है।
हाँ ! देखिये क्या अजीब दृश्य है,
जिसकी कामना है वह दूर है,
जिसकी चाह नहीं भरपूर है,
यही मूलमंत्र है
सफलता और सुख की
आसक्ति का परित्याग
विफलता और दुख के
भाव और भय का अंत है।
किन्तु कैसे ! अन्तर्मन यह रहस्य
समझ नहीं पाता है,
गौर से सुनो! स्वयं मे निहित
आनंद की बांसुरी की मीठी तान
जिस पर ‘संतोष’ झूमता है, गाता है।

अपने विचार साझा करें




0
ने पसंद किया
867
बार देखा गया

पसंद करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com