शान्त उसका हुस्न-ए-बरहम ही कब था  सलिल सरोज

शान्त उसका हुस्न-ए-बरहम ही कब था

सलिल सरोज

ज़ख्मों से गिला बाक़ायदा बेमानी ही था,
आखिर मैं काबिल-ए-मरहम ही कब था।
 

मेरे जलने में सिर्फ मेरा ही कुसूर न था,
शान्त उसका हुस्न-ए-बरहम ही कब था।
 

मेरे नाम लेने से वो बदनाम कभी न था,
बाज़ारों से उठा दागो-दिरहम ही कब था।
 

वो चाँद बनके निकला तो भी दाग ही था,
मुरुब्बत का चेहरा नूर-ए-पैहम ही कब था।
 

इस सफर को होना बस तमाम ही सा था,
उसके दिल में रोज़ा-ए-रहम ही कब था।

अपने विचार साझा करें




0
ने पसंद किया
682
बार देखा गया

पसंद करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com